October 4, 2022
PFI को हर महीने करीब करोड़ों की फंडिंग
जांच एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक अकेले यूएई और अरब देशों से पीएफआई को हर महीने 3 मिलियन दिरहम यानी करीब 6.7 करोड़ की फंडिंग की जाती है. NIA और ED की जांच में गल्फ देशों को पीएफआई से लिंक कई मेन पावर सप्लाई (Men Power Supply) करने वाली कंपनियां के बारे में पता चला है

PFI Raid latest update: पीएफआई की गतिविधियों पर सरकारी एजेंसियों की नजर लंबे समय से थी. इस बीच सबूत मिलते ही देशभर में एक साथ बड़ी कार्रवाई शुरू की गई. एनआईए (NIA) और ईडी (ED) की जांच के बीच अब इस संगठन को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है.

(NIA) और ईडी (ED) की जांच

PFI sources of funding: पापुलर फ्रंट आफ इंडिया यानी पीएफआई (PFI) के खिलाफ देश भर में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) की छापेमारी में एक बड़ा खुलासा हुआ है. सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक इस छापेमारी में पीएफआई की देश और विदेश से हो रही फंडिंग के बारे में अहम सुराग हाथ लगे हैं. मौजूद दस्तावेजों से खुलासा हुआ है कि गल्फ देशों में रह रहे पीएफआई से सहानुभूति रखने वाले मुस्लिम पीएफआई को करोड़ों रुपये की फंडिग कर रहे हैं.

यह भी देखे

PFI को हर महीने करीब करोड़ों की फंडिंग

जांच एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक अकेले यूएई और अरब देशों से पीएफआई को हर महीने 3 मिलियन दिरहम यानी करीब 6.7 करोड़ की फंडिंग की जाती है. NIA और ED की जांच में गल्फ देशों को पीएफआई से लिंक कई मेन पावर सप्लाई (Men Power Supply) करने वाली कंपनियां के बारे में पता चला है.

इस रूट से आता है पैसा

केरल,तमिलनाडु,कर्नाटक,महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों से इन कंपनियों के जरिये गल्फ देशों में काम करने गए हजारों लोग पीएफआई को हर महीने फंडिंग करते हैं. कई बार पीएफआई को फंडिंग हवाला के जरिये भी मिलती है.

सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक, यूएई और अरब देशों में इन्हीं मेन पावर सप्लाई के जरिये गये 30 हज़ार से ज्यादा पीएफआई के काडर या उससे सहानुभूति रखने वाले मुस्लिम पीएफआई को फंडिंग करते हैं. इन सभी से हर महीने 100 दिरहम की फंडिंग पीएफआई को करनी होती है. यानी सभी मिलकर 3 मिलियन दिरहम की फंडिंग हर महीने पीएफआई को करते हैं.

पीएफआई की कमाई का सच आया सामने

पीएफआई की फंडिंग की जांच में सूत्रों से ये भी जानकारी मिली है कि पीएफआई बुक पब्लिकेशन,मैग्जीन और सीडी के जरिये भी कमाई करता है. साथ ही देश के कई मस्जिदों और मदरसों से भी होती है पीएफआई को फंडिंग की जाती है. जांच में केरल के कुछ एनजीओ के भी नाम सामने आये हैं जिनके जरिये गल्फ देशों से पीएफआई को फंडिग की जाती है.