PM प्रधानमंत्री मोदी कि माँ हीराबेन ने दुनिया को कहा अलविदा,खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर कही बड़ी बात.... अहमदाबाद के लिए हुए रवाना

https://yuvaportal.com/

PM प्रधानमंत्री मोदी कि माँ हीराबेन ने दुनिया को कहा अलविदा,खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर कही बड़ी बात.... अहमदाबाद के लिए हुए रवाना 

PM Modi's mother Heeraben dies : आज मोदी जी के लिए बहुत खराब दिन है क्यों की आज  उनकी माँ हिराबेन का निधन हो गया है खुद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'शानदार शताब्दी का ईश्वर चरणों में विराम... मां में मैंने हमेशा उस त्रिमूर्ति की अनुभूति की है, जिसमें एक तपस्वी की यात्रा, निष्काम कर्मयोगी का प्रतीक और मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध जीवन समाहित रहा है.'
 
आज सुबह ही बुरी खबर मिली है कि  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मां हीराबेन का निधन हो गया है. 

pm mother Heeraben Modi passed away:आज सुबह ही बुरी खबर मिली है कि  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मां हीराबेन का निधन हो गया है. बताया जा रहा है की आज तड़के लगभग 3.30 बजे हीराबेन मोदी ने आखिरी सांस ली.उन कि तबीयत खराब होने के बाद बुधवार की सुबह हि उन्हें अहमदाबाद के ‘यू एन मेहता इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी एंड रिसर्च सेंटर’ में भर्ती कराया गया था. बताया जा रहा है कि पीएम मोदी अहमदाबाद के लिए रवाना हो चुके हैं, वो सुबह 7.30  वहां अहमदाबाद  पहुंचेंगे.

मोदी अपनी माँ से बहुत प्यार करते थे हमेसा उन का आना जाना रहता था आज पीएम मोदी ने मां के निधन पर ट्वीट कर लिखा, 'शानदार शताब्दी का ईश्वर चरणों में विराम... मां में मैंने हमेशा उस त्रिमूर्ति की अनुभूति की है, जिसमें एक तपस्वी की यात्रा, निष्काम कर्मयोगी का प्रतीक और मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध जीवन समाहित रहा है.

उन्होंने यह भी कहा कि मैं जब उनसे 100वें जन्मदिन पर मिला तो उन्होंने एक बात कही थी, जो हमेशा याद रहती है कि 'बुद्धि से काम लो, पवित्रता से जियो' यानि काम करो बुद्धि से और जीवन जियो शुद्धि से.'

बतादे कि गांधीनगर शहर के पास रायसन गांव में हीराबेन पीएम मोदी के छोटे भाई पंकज मोदी के साथ रहती थीं. प्रधानमंत्री हमेसा वहां जाते थे और अपनी यात्राओं के बीच अपनी मां से मुलाकात करते  थे. इसी गुरुवार को अस्पताल ने एक बयान जारी कर कहा था कि हीराबा मोदी की तबीयत ठीक हो रही हैं.

माँ कि अंतिम सांस से पहले पीएम मोदी बुधवार को दिल्ली से अहमदाबाद पहुंचे थे और अस्पताल जाकर मां का हालचाल जाना था. वह एक घंटे से अधिक समय तक अस्पताल में रहे. उन्होंने सिविल अस्पताल में डॉक्टरों से भी बात की थी.उन से पूरी जानकारी लि. 

देश विदेश
खेत किसानी

FROM AROUND THE WEB