corona : क्या भारत में भी तबाही मचा सकता है कोरोना का BF 7 वैरिएंट,जानिए क्या कहते है एक्सपर्ट्स

https://yuvaportal.com/

corona : क्या भारत में भी तबाही मचा सकता है कोरोना का BF 7 वैरिएंट,जानिए क्या कहते है एक्सपर्ट्स 

corona : बहुत लंबे समय से कोरोना ने लगभग हर देश मे तबाही मचा रखी है अब इस का नया BF.7 वैरिएंट सब को परेसान कर रहा है अब चीन में कोरोना के BF.7 वैरिएंट से मची तबाही को देखते हुए अब भारत भी अलर्ट मोड पर है. कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है की पिछली कोरोना की लहर में चीन में कोरोना केस बढ़ने के लगभग 35 -40 दिन के बाद भारत में कोरोना के मामले बढ़ने लगे थे. 
 
डॉ. एनके अरोड़ा ने बताया है कि भारत में चीन जैसे हालात बनने की गुंजाइश बहुत कम है क्योंकि यहां के लोगों में अब हाइब्रिड इम्युनिटी अच्छी बन चुकी है.
 

corona : एक्सपर्ट्स का मानना है की इस बार भी इस नए साल में कोविड को लेकर असली तस्वीर जनवरी तक ही सामने आएगी. आपको बता दे की कोरोना टास्क फोर्स के प्रमुख डॉ. एनके अरोड़ा ने बताया है कि भारत में चीन जैसे हालात बनने की गुंजाइश बहुत कम है क्योंकि यहां के लोगों में अब हाइब्रिड इम्युनिटी अच्छी बन चुकी है.

corona : इस समय सिर्फ चीन मे ही नहीं बल्कि अब जापान और अमेरिका समेत बहुत से देशों में कोरोना से हालात बिगड़ने लगे हैं. अगर हम बात करे भारत कि तो अभी तक संक्रमण फिलहाल काबू में है परंतु अधिकारियों का मानना है कि पिछले कुछ साल के ट्रेंड को देखते हुए जनवरी में कोरोना के मामले यहा भी बढ़ सकते हैं. परंतु कोरोना टास्क फोर्स के प्रमुख डॉ. एनके अरोड़ा ने बताया कि भारत में हाइब्रिड इम्युनिटी की वजह से चीन जैसे हालात बनने की संभावना बहुत कम है. 

आप को बता दे कि COVID-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूत 'हाइब्रिड इम्युनिटी' के कारण से पड़ोसी देश चीन की बजाय ज्यादा बेहतर आकार ले रही है. ये जानकारी देश के वैक्सीन टास्क फोर्स के प्रमुख एनके अरोड़ा ने एक इंटरव्यू बताई है. 

दूसरी तरफ भारत के नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप के कोविड-19 कार्यकारी समूह के अध्यक्ष जिनका नाम एनके अरोड़ा है उन्होंने कहा है कि चीन के टीकाकरण की स्थिति,और  कोरोना केसों की गंभीरता और वहां फैलने वाले वैरिएंट्स की सही जानकारी में बहुत भारी गड़बड़ियां हैं. 

हमको कोरोना के खिलाफ फिर से मजबूत होना होगा

इस करोना महामारी की शुरुआत से टीकाकरण अभियान की योजनाओं के साथ जुड़े रहने वाले एनके अरोड़ा ने बताया कि  ''चीन की स्थिति ने हमें फिर से उच्च स्तर पर सावधानी बरतने और कोरोना के खिलाफ सजग होने के लिए प्रेरित किया है. हमें किसी भी हालत में बिल्कुल भी लड़खड़ाना नहीं है.''

एक्सपर्ट्स के अनुसार भारत में अब हाइब्रिड इम्युनिटी फैल चुकी है

एक्सपर्ट्स ने बताया कि भारत कई कारणों से चीन की तुलना में महामारी से लड़ने के मामले में अच्छी  स्थिति में है. उनमें एक वजह हाइब्रिड इम्युनिटी है जो टीकाकरण और नैचुरल इम्युनिटी (बीमारी के बाद पैदा होने वाली इम्युनिटी) का मिश्रण है.

उन्होंने बताया कि नैचुरल इम्युनिटी तब पैदा होती है जब आप किसी रोगाणु से संक्रमित हो जाते हैं और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली इससे लड़ने के लिए एंटीबॉडी(रोग प्रतिरोधक छमता ) बनाती है. संक्रमण से आप बीमार तो  होते हैं परंतु अगर आप फिर कभी  उस विषाणु या जीवाणु के संपर्क में आते हैं तो आपके शरीर का इम्यून सिस्टम उसे पहचान लेता है और आपके  शरीर की एंटीबॉडी उससे लड़ने लगती हैं. इससे फायदा ये होता है कि आपके दोबारा संक्रमित होने या बीमार पड़ने की संभावना कम हो जाती है.

आज चीन की तुलना में हम बेहतर स्थिति में हैं

एक्सपर्ट्स डॉ. अरोड़ा ने आगे कहा, ''हर्ड इम्युनिटी एक जटिल मामला है. अभी हमें उसमें जाने की जरूरत नहीं है. भारत में मजबूत हाइब्रिड इम्युनिटी है. भारत ने संक्रमण की लहरों के बाद और लहरें देखी हैं और कई लोग संक्रमण के संपर्क में आए हैं.''

एक्सपर्ट्स ने कहा कि भारत में 12 साल से कम उम्र के कम से कम 96 फीसदी बच्चे कोविड के संपर्क में आ चुके हैं जिससे प्राकृतिक प्रतिरोधक क्षमता विकसित हुई है. साथ ही भारत में लोगों को कोरोना वैक्सीन की दो खुराक मिल चुकी हैं जिससे भी भारत मे काफी फायदा होगा.

एक्सपर्ट्स ने कहा कि अब भारत का जीनोमिक सर्वेलांस हर चीज में शीर्ष पर है. 

एक्सपर्ट्स कि राय है कि दूसरी बूस्टर डोज ना लगाएं लोग

एक्सपर्ट्स डॉ. अरोड़ा ने कहा कि जिन लोगों को पहले से ही बूस्टर खुराक मिल चुकी है, वो CoWIN पर नेजल वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं करा पाएंगे. उन्होंने अब लोगों को दूसरा बूस्टर ना लेने की चेतावनी दी.

भारत मे BF.7 वैरिएंट पर फिक्र करने की जरूरत नहीं

एक्सपर्ट्स ने BF.7 वैरिएंट की चिंताओं पर कहा कि चीन कई वैरिएंट के मिश्रण का सामना कर रहा है और BF.7 वहां के केवल 15 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार है.

एक्सपर्ट्स ने बताया कि चीन की हालत के लिए एक नहीं कोरोना के कई रूप जिम्मेदार

एक्सपर्ट्स ने 2 दिन पहले की एक रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें बताया गया था कि अब चीन कोरोना के कई वैरिएंट के मिश्रण के हमले का सामना कर रहा है. अब वहां 50 प्रतिशत मामले बीएन और बीक्यू सीरीज के वायरस की वजह से हैं जबकि10-15 प्रतिशत केस  एसवीवी वैरिएंट से फैले हैं.

देश विदेश
खेत किसानी

FROM AROUND THE WEB