September 27, 2022

इस त्योहारी सीजन में शराब कंपनियां (Liquor Companies) अपनी बिक्री को बढ़ाने की कोशिश में जुटी हैं. उन्होंने शराब की सप्लाई (Liquor Supply) बढ़ाने का लक्ष्य रखा है. कोरोना महामारी (Corona) की वजह से पिछले दो साल त्योहारी सीजन में शराब की बिक्री में गिरावट देखने को मिली थी. शराब बनाने वाली कंपनियां इस साल फेस्टिव सीजन में कमाई का मौका नहीं गंवाना चाहती हैं. उन्हें उम्मीद है कि इस सीजन जमकर बिक्री होगी. भारत में अक्टूबर से जनवरी के बीच का समय शराब और बेवरेज कंपनियों के कारोबार के लिए मुफीद माना जाता है. इस वजह कंपनियों ने अपनी कमर कस ली है.

बिक्री में बढ़ोतरी का अनुमान

रिपोर्ट के अनुसार, जिन ब्रांड बनाने वाली नाओ स्पिरिट्स एंड बेवरेजेज को इस सीजन दोगुनी बिक्री की उम्मीद है. डियाजियो इंडिया समर्थित जिन निर्माता कंपनी आमतौर पर महाराष्ट्र, दिल्ली और गोवा में अक्टूबर के बाद बिक्री में बढ़ोतरी का अनुमान जता रही है. कंपनी के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) आनंद विरमानी ने कहा, ‘त्योहारों के मौसम के दौरान आपूर्ति बढ़ा दी जाएगी. पिछले साल कंपनी ने 53,000 केसेज बेचे थे.

यह भी देखें..

महामारी की वजह से घटी थी बिक्री

विभिन्न प्रकार की भारतीय निर्मित विदेशी शराब बनाने वाली कंपनी रेडिको खेतान के CEO अमर सिन्हा ने कहा- ‘महामारी ने पिछले दो सालों से ग्राहकों को फेस्टिवल में शामिल नहीं होने दिया है. उन्होंने कहा कि इस साल त्योहारी तिमाही में काफी उम्मीद है. बीयर बनाने वाली कंपनी मेडुसा बेवरेजेज प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और सीईओ अवनीत सिंह ने कहा कि नॉर्थ इंडिया में तीन ब्रेवरीज के साथ करार किया है, ताकि बढ़ती मांग को पूरा किया जा सके.

ड्रिकिंग बिहेवियर में बदलाव

बकार्डी इंडिया एंड साउथ ईस्ट एशिया के प्रबंध निदेशक संजीत सिंह रंधावा का कहना है कि कंपनी त्योहारी सीजन से पहले मांग में इजाफा देखने को मिल रहा है. हालाकि, वो कहते हैं कि पिछले दो वर्षों में लोगों के पीने के व्यवहार में काफी बदलाव आया है. लोगों का झुकाव अब प्रीमियम और सुपर-प्रीमियम अल्कोहल की तरफ बढ़ा है. समझदार ग्राहक बेहतरीन क्वालिटी वाले पेय का आनंद लेना चाहते हैं. रंधावा ने कहा कि प्री-कोविड स्तर से ऊपर की बिक्री की उम्मीद कर रहे हैं. इसके लिए हम सप्लाई को लेकर पूरी तरह से तैनात हैं.