September 27, 2022
जहां दुनिया के टॉप-10 अरबपतियों की लिस्ट में भारतीय उद्योगपतियों गौतम अडानी और मुकेश अंबानी का दबदबा है. वहीं देश में रईसों की संख्या में भी इजाफा देखने को मिल रहा है. इसके बावजूद अमीरों की संख्या के मामले में भारत को कोई भी शहर टॉप-20 तक में शामिल नहीं है. भारत की बात करें तो हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2022 के मुताबिक मुंबई में देश के सबसे ज्यादा 72 अरबपति रहते हैं. देश की राजधानी दिल्ली में 51 अरबपतियों के घर हैं, जबकि 28 अरबपतियों के घर के साथ बेंगलुरु तीसरे स्थान पर है.

क्या आप जानते हैं कि दुनिया के ऐसे कौन-कौन से शहर हैं, जहां पर सबसे ज्यादा करोड़पति रहते हैं. अगर नहीं तो हम आपको इसकी पूरी जानकारी दे रहे हैं. दरअसल, ब्लूमबर्ग ने हेनले एंड पार्टनर्स ग्रुप के हवाले से इससे जुड़ी एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. इसके मुताबिक, अमीरों की संख्या के मामलें में अमेरिका के शहर टॉप पर हैं. ऐसे टॉप-10 शहरों में तो पांच शहर अमेरिका के ही हैं.

दुनिया में अमीरों की तादाद में गिरावट

हेनले एंड पार्टनर्स ग्रुप की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में अमीरों की तादाद में 12 फीसदी की कमी आने के बावजूद न्यूयॉर्क इस साल भी दुनिया में करोड़पतियों की संख्या के मामले में सबसे आगे है. बता दें, रिपोर्ट में वे करोड़पति शामिल हैं, जिनके पास निवेश लायक संपत्ति में 1 मिलियन डॉलर या इससे अधिक है. इसमें नकद, चेक, बचत खाते से लेकर स्टॉक मार्केट में निवेश, सरकारी बॉन्ड और म्यूचुअल फंड तक शामिल हैं. टॉप 10 देशों की लिस्ट में तो आधे शहर अमेरिका के हैं.

किन शहरों में कितने करोड़पति

अमीरों की पसंद वाले दुनिया के शहरों की लिस्ट में No.1 न्यूयॉर्क में 3.45 लाख करोड़पति रहते हैं. इस शहर में 59 अरबपति भी बसते हैं और यहां पर 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा संपत्ति वाले अमीरों की संख्या 737 है. लिस्ट में दूसरे नंबर पर जापान की राजधानी टोक्यो का नाम आता है, जहां पर 3.04 लाख करोड़पति और 12 अरबपति निवास करते हैं. इस शहर में 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा संपत्ति वाले अमीरों की संख्या 263 है.

वहीं करोड़पतियों की संख्या के लिहाज से तीसरे नंबर पर अमेरिकी शहर सैन फ्रैंसिस्को है, जहां 2.76 लाख करोड़पति और 62 अरबपति हैं. इस शहर में 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा की संपत्ति वाले अमीरों की संख्या 623 है.

टॉप-10 में ये शहर भी शामिल

टॉप-10 की लिस्ट में चौथे स्थान पर ब्रिटेन की राजधानी लंदन है. यहां कुल 2.72 लाख करोड़पति रहते हैं, जबकि अरबपतियों की संख्या यहा पर 38 है. इसके साथ ही लंदन में 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा की संपत्ति रखने वाले 406 अमीर लोग निवास करते हैं. पांचवे पायदान पर सिंगापुर आता है और अमीरों की संख्या की बात करें तो यहां पर 2.49 लाख करोड़पति रहते हैं. जबकि, 26 अरबपतियों वाले इस शहर में 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा संपत्ति 336 लोगों के पास है. टॉप-10 शहरों की इस लिस्ट में छठे नंबर पर लॉस एंजिल्स, सातवें पर शिकागो, आठवें पर ह्यूस्टन, नौंवे स्थान पर बीजिंग और दसवें पायदान पर शंघाई का नाम है.

टॉप-20 में भी भारत का कोई शहर नहीं

Millionaires के पसंदीदा 20 शहरों की लिस्ट को देखें तो खास बात यह है कि भारत इसमें शामिल नहीं है. लिस्ट के मुताबिक, 11वें नंबर पर सिडनी है और उसके बाद 12 नंबर पर हांगकांग मौजूद है. जर्मनी का फ्रैंकफर्ट 13वां, कनाडा का टोरंटो 14वां और स्विट्जरलैंड का ज्यूरिक अमीरों के लिए 15वां सबसे पसंदीदा शहर है. अन्य शहरों की बात करें तो लिस्ट में कोरिया का सियोल, ऑस्ट्रेलिया का मेलबर्न, अमेरिका का डलास, स्विट्जरलैंड का जिनेवा और फ्रांस की राजधानी पेरिस भी शामिल है.

इन भारतीय शहरों में सबसे ज्यादा रईस

जहां दुनिया के टॉप-10 अरबपतियों की लिस्ट में भारतीय उद्योगपतियों गौतम अडानी और मुकेश अंबानी का दबदबा है. वहीं देश में रईसों की संख्या में भी इजाफा देखने को मिल रहा है. इसके बावजूद अमीरों की संख्या के मामले में भारत को कोई भी शहर टॉप-20 तक में शामिल नहीं है. भारत की बात करें तो हुरुन ग्लोबल रिच लिस्ट 2022 के मुताबिक मुंबई में देश के सबसे ज्यादा 72 अरबपति रहते हैं. देश की राजधानी दिल्ली में 51 अरबपतियों के घर हैं, जबकि 28 अरबपतियों के घर के साथ बेंगलुरु तीसरे स्थान पर है.

रियाद-शारजाह में तेजी से बढ़े करोड़पति

2022 की पहली छमाही यानी जनवरी-जून के बीच न्यूयार्क में करोड़पतियों की संख्या 12 फीसदी घटी है. सैन फ्रांसिस्को में भी करोड़तियों की तादाद 4 फीसदी कम हो गई है. वहीं लंदन में करोड़पतियों की संख्या में 9 फीसदी की कमी दर्ज की गई है. लेकिन इस दौरान रियाद और शारजाह में इस साल अब तक सबसे तेजी से करोड़पतियों की संख्या बढ़ी है. इसके साथ ही अबू धाबी और दुबई में भी करोड़पतियों के आंकड़े ने रफ्तार भरी है.

दुनिया के इन शहरों में सबसे ज्यादा अरबपति, अडानी-अंबानी के बावजूद भारत टॉप-20 में बाहर?

इस बीच सबसे ज्यादा अमीरों का पलायन रूस से हुआ है. चीन के बीजिंग और शंघाई में भी करोड़पतियों की संख्या कम हुई है, जिस वजह से ये धन गंवाने वाले देशों में रूस के बाद चीन दूसरे नंबर पर पहुंच गया है.