October 3, 2022
हाल ही में जब फांग लु चीन से अमेरिका पहुंचा तो उसे 8 साल पुराने कत्लेआम के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ के दौरान हत्या की वजह सुनकर पुलिसवाले दंग रह गए. हालांकि, कोर्ट में पेश किए गए दस्तावेजों के अनुसार, फांग बार-बार अपने बयान बदल रहा है.

सैलरी हाइक और प्रमोशन… ये दो चीजें नौकरीपेशा शख्स के लिए काफी मायने रखती हैं. ऐसे में अगर उम्मीद के मुताबिक चीजें ना मिले तो कई बार शख्स नाराज हो जाता है या दूसरी नौकरी तलाश लेता है. लेकिन एक शख्स ने प्रमोशन ना मिलने पर ऐसा खौफनाक कदम उठाया, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी.

दरअसल, ये कहानी अमेरिका में नौकरी करने वाले 58 साल के फांग लु (Fang Lu) की है, जो सिर्फ प्रमोशन नहीं मिलने की वजह से कातिल बन गया. वह मूल रूप से चीन का रहने वाला है. फांग लु ऑयलफील्ड सर्विसेज कंपनी Schlumberger में काम करता था. उसने अपनी कंपनी के बॉस और उसके पूरे परिवार (कुल 4 लोगों को) को सिर्फ इसलिए मार डाला क्योंकि बॉस ने उसे नौकरी में प्रमोशन देने से इनकार कर दिया था.

हाल ही में जब फांग लु चीन से अमेरिका पहुंचा तो उसे 8 साल पुराने कत्लेआम के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ के दौरान हत्या की वजह सुनकर पुलिसवाले दंग रह गए. हालांकि, कोर्ट में पेश किए गए दस्तावेजों के अनुसार, फांग बार-बार अपने बयान बदल रहा है.

यह भी देखें..

दरअसल, साल 2014 में माओये (आरोपी के बॉस रहे शख्स) , उनकी पत्नी मेइक्सी, 9 साल की बेटी और 7 साल के बेटे को अलग-अलग बेडरूम में मृत पाया गया था. इन सभी के सिर में गोलियां मारी गई थीं.

फांग लु को उसके बॉस माओये ने प्रमोशन के लिए रिकमेंड नहीं किया था. इस बात को लेकर वो बॉस पर भड़क उठा और बाद में उसने माओये समेत पूरे परिवार की हत्या कर दी.

Houston Chronicle के रिपोर्ट के मुताबिक, फांग लु को अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से गिरफ्तार किया गया है. वो हत्या के बाद अमेरिका से भागकर अपने देश चीन चला गया था. लेकिन 8 साल बाद वह फिर वापस लौटा.

बॉस से नाराज था कर्मचारी (सांकेतिक फोटो- गेटी)

फांग ने पुलिस को बताया कि प्रमोशन के बजाय बॉस ने उसको भला-बुरा कहा था. इस कारण ऑफिस में उसकी काफी बेइज्जती हुई थी. फांग लु ने यह भी कहा कि वह दूसरे विभाग में ट्रांसफर चाहता था लेकिन बॉस ने मना कर दिया था.

इन सभी घटनाओं के बाद माओये की परिवार समेत हत्या हो गई. हालांकि, फांग लु हत्या की बात से इनकार करता रहा. लेकिन 8 साल तक जांच पड़ताल और सबूत इकट्ठा करने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.