October 4, 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) आज 72 साल के हो गए. पीएम मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वड़नगर (Vadnagar) में हुआ था. उनका पूरा नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी है. आज पीएम मोदी दुनिया के लिए एक बड़ा ब्रांड बन चुके हैं. बचपन से ही वे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) से जुड़े और लंबे समय तक संगठन से जुड़कर 1972 में संघ के प्रचारक बन गए. BJP के गठन के बाद उन्होंने 1986 में पार्टी में एंट्री ली और राजनीति के सफर में एक के बाद एक मुकाम बनाते चले गए.

4 बार CM, दो बार PM

नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 4 बार गुजरात के मुख्यमंत्री (Gujrat CM) रहे. फिर उनकी हैसियत और शख्सियत जबर्दस्त तरीके से बढ़ती गई और देश की जनता के दिलों में उनकी ऐसी छवि बनी कि साल 2014 में देश का प्रधानमंत्री (Prime Minister) बना दिया. प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठकर मोदी ने जो निर्णय लिए उनसे लोगों में उनकी छवि और बेहतर हुए.

इसका नतीजा ये हुआ कि 2019 में उन्होंने जोरदार जीत हासिल की और दोबारा पीएम बने. पीएम मोदी के नेतृत्व में 8 साल के कार्यकाल के दौरान देश में कई कल्याणकारी योजनाएं (Schemes) शुरू कीं, जो उनकी बड़ी उपलब्धियों के तौर पर जानी जाती हैं. इनसे गरीबों, किसानों, महिलाओं समेत सभी को फायदा मिल रहा है. आइए मोदी राज में शुरू हुईं इन योजनाओं के बारे में विस्तार से जानते हैं.

मोदी काल की योजनाएं लाईं ये बदलाव

पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई इन योजनाओं (Modi Government Schemes) से देश की बड़ी आबादी को सीधे-सीधे फायदा पहुंचा. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के जरिए जहां महिलाओं को चूल्हे के धुएं से निजात दिलाई, तो मुद्रा योजना के जरिए लोगों को अपना खुद का रोजगार शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता मुहैया कराई. इसके अलावा आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत कर देश को स्वस्थ रखने की दिशा में बड़ा कदम उठाया. आवास योजना के जरिए लोगों को अपनी छत मिली, तो वहीं गरीब कल्याण अन्न योजना के जरिए लोगों का पेट भरने का जिम्मा उठाया.

1- प्रधानमंत्री जन धन योजना (शुरुआत- 28 अगस्त 2014 )

देश के हर परिवार के लिए बैंक अकाउंट सुनिश्चित करने के लिए मोदी सरकार ने 2014 को प्रधानमंत्री जन धन योजना (PM Jan Dhan Yojana) की शुरुआत की थी. इसमें हर परिवार के दो सदस्य जीरो बैलेंस में खाता खोल सकते हैं. जनधन खाता योजना के जरिए हर परिवार को बैंकिंग सुविधा देने का काम किया गया. जन धन खाते में पैसे जमा करने या निकालने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा. इन खातों में बिना किसी चार्ज के फंड ट्रांसफर होता है और बिना किसी शुल्क के मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मिलती है.

PMJDY के तहत खुले बैंक अकाउंट्स में कुल जमा राशि 1.5 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गई है. वित्त मंत्रालय के अनुसार, दिसंबर 2021 के आखिर में 44.23 करोड़ से अधिक जनधन अकाउंट्स में 1,50,939.36 करोड़ रुपये जमा थे. इस योजना का लक्ष्य 18 साल से अधिक आयु के देश के हर नागरिक को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ना है.

2- प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (शुरुआत- 8 अप्रैल 2015 )

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करने के लिए 2015 में पीएम मुद्रा योजना (PM Mudra Yojana) शुरू की. इसमें लघु और सूक्ष्म उद्योग से जुड़े लोगों को 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है. इसमें शिशु, किशोर और तरुण कैटेगरी शामिल हैं. सात साल में इस योजना ने कई लोगों की जिंदगी को बदलने का काम किया है.

मुद्रा योजना

इस योजना में शिशु योजना के तहत 50 हजार रुपये तक, किशोर योजना के तहत 50 हजार से 5 लाख रुपये तक और तरुण योजना के तहत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है. गैर-कॉर्पोरेट, गैर-कृषि लघु या सूक्ष्म उद्यम के साथ ही निजी बिजनेस शुरू करने के लिए भी यह लोन दिया जाता है.

3- बीमा योजना (शुरुआत- 8 मई 2015)

केंद्र सरकार की ओर से देश के हर नागरिक को जीवन बीमा का लाभ देने के लिए 2015 को मोदी सरकार ने दो बीमा योजनाओं की शुरुआत की. इनमें प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PMJJBY) शामिल है. शुरुआत में प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में आप सिर्फ 12 रुपये सालाना प्रीमियम चुकाकर 2 लाख रुपये तक का कवर पा सकते थे, इसी साल 1 जून 2022 से इसका प्रीमियम कुछ बढ़ाया गया है. अब यह 12 रुपये से 20 रुपये कर दिया गया है. इसे 18 से 70 साल का कोई भी व्यक्ति ले सकता है.

यह भी देखें..

वहीं, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में सालाना 330 रुपये चुकाकर आप 2 लाख का बीमा पा सकते थे. इसका प्रीमियम भी सालाना 330 रुपये से बढ़ाकर अब 436 रुपये कर दिया गया है. यह योजना 18-50 साल की उम्र का कोई भी भारतीय नागरिक ले सकता है. जीवन ज्योति बीमा पॉलिसी की मैच्योरिटी की उम्र 55 साल है. इस टर्म प्लान को हर साल रिन्यू कराना पड़ता है.

4- प्रधानमंत्री आवास योजना (शुरुआत- 25 जून 2015)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश में हर व्यक्ति के लिए पक्की छत यानी पक्का मकान सुनिश्चित करने के लिए 2015 में ही पीएम आवास योजना (PM Awas Yojana) की शुरुआत की थी. इसमें लोगों को होम लोन पर सब्सिडी दी जाती है. इस योजना के तहत सभी को घर उपलब्ध करवाने के उद्देश्य होम लोन के ब्याज में सब्सिडी दी जा रही है और इसके तहत हर परिवार को 2.60 लाख रुपये का फायदा मिलता है. सरकार कई सालों से इस स्कीम के जरिए लोगों को फायदा पहुंचा रही है. प्रधानमंत्री आवास योजना को मोदी कार्यकाल में शुरू की गईं जनकल्याणकारी योजनाओं में सबसे अहम माना जाता है.

5- उज्जवला योजना (शुरुआत- 1 मई 2016)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियों की बात करें तो उनके नेतृत्व में शुरू की गईं कल्याणकारी योजनाओं में से एक उज्जवला योजना (Ujjwala Yojana) ने गरीबों का जीवन आसान बनाने का काम किया है. इस योजना में बड़ी संख्या में गरीब परिवार की महिलाओं को फ्री गैस कनेक्शन आवंटित किए गए हैं.

महिलाओं को धुएं से आजादी

महिलाओं के हित में शुरू की गई इस बड़ी योजना ने उन्हें चूल्हे के धुएं से आजादी दिलाई. जिन घरों में पहले चूल्हे पर खाना बन रहा था, अब उन घरों तक इस योजना के जरिए गैस सिलेंडर पहुंचा है. इस योजना का बड़ी संख्या में लोगों को फायदा हुआ है और अब तक करोड़ों परिवारों को गैस कनेक्शन बांटे जा चुके हैं.

6- आयुष्मान भारत (शुरुआत- 1 अप्रैल 2018)

देश में सभी के लिए हेल्थकेयर सुविधाओं की पहुंच आसान बनाने का लक्ष्य रखकर मोदी सरकार ने 2018 से आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) की शुरुआत की. इस स्कीम में लोगों को गंभीर बीमारियों के लिए 5 लाख रुपये तक का बीमा मिलता है. यह एक मेडिक्लेम के समान है, जिसका लाभ देश भर के लाभार्थियों को मिल रहा है. स्वस्थ भारत की दिशा में यह एक बड़ा कदम माना जाता है.

हाल ही में मोदी सरकार ने इस योजना के तहत बड़ा कदम उठाते हुए ट्रांसजेंडरों को भी आयुष्मान भारत (Ayushman Bharat) के तहत 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिल सकेगा. समझौते के तहत ट्रांसजेंडरों के स्वास्थ्य बीमा पर होने वाले खर्च की राशि सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय (Social Justice Ministry) वहन करेगा.

7- पीएम किसान सम्मान निधि (शुरुआत- 24 फरवरी 2019)

किसानों के हित में प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में यह योजना शुरू की गई. छोटे किसानों को राहत देने के लिए 2019 में किसान सम्मान निधि योजना (kisan Samman Nidhi Yojana) का आरंभ हुआ. इस योजना का लाभ 2 हेक्टेयर से कम जमीन वाले किसानों को मिलता है. इसमें सरकार किसानों को सालाना 6,000 रुपये दे रही है, जो 2-2 हजार रुपये की किस्त के रूप किसानों के खाते में आते हैं. केंद्र सरकार की ओर से इस योजना के तहत अब तक 11 किस्तें किसानों के खाते में डाली जा चुकी हैं. योजना में रजिस्टर्ड करीब 10 करोड़ किसानों को 12वीं किस्त इसी महीने मिलने की संभावना व्यक्त की जा रही है.

8- प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (शुरुआत- 26 मार्च 2020)

कोरोना महामारी के दौरान गरीब तबके को राहत देने के लिए सरकार ने पीएम गरीब कल्याण योजना (PM Garib Kalyan Yojana) के तहत 5 किलो राशन हर महीने मुफ्त देने की शुरुआत की. इस योजना का लाभ देश के 80 करोड़ लोगों को मिलता है. केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMJKAY) को खाद्य सुरक्षा कानून के तहत शुरू किया था.

इस योजना के तहत 5 किलो मुफ्त चावल या गेंहू, 1 किलो चना 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को दिया जाता है. यानि 5 व्यक्तियों वाले एक लाभार्थी परिवार को 50 किलो अनाज दिया जाता है. जिसमें 25 किलो मुफ्त और 25 किलो में गेंहू 2 या चावल 3 रुपये के दाम पर उपलब्ध कराया जाता है.