October 3, 2022

राजू श्रीवास्तव

राजू श्रीवास्तव का निधन हो गया है. एम्स के ICU में भर्ती राजू को दिल का दौरा पड़ा था. जिसके बाद उनके ब्रेन ने भी रिस्पॉन्ड करना बंद कर दिया. राजू भारत के फेमस कॉमेडियन में से एक माने जाते थे. उन्होंने अपनी जर्नी अर्श से शुरू की थी.

राजू श्रीवास्तव जब मुंबई आए थे उनके पास कुछ नहीं था. वो काम की तलाश में इधर-उधर भटकते थे. जिसके बाद उन्होंने एक गली के बैंड को ज्वाइन किया था. लेकिन राजू उस दौरान कहां और किस हालात में रहते थे क्या आप जानते हैं. आजतक से बातचीत में राजू के कॉमेडियन दोस्त अशोक मिश्रा ने बताया.

फीमेल फ्लैटमेट के साथ रहे राजू

चौंकीएगा मत, इससे पहले कि आप कुछ और सोचें, हम आपको बता देते हैं कि राजू की ये फीमेल फ्लैट-मेट एक बुजुर्ग महिला थी. राजू के पास पैसे नहीं थे. बमुश्किल ही वो खाने-पीने का जुगाड़ कर पाते थे. ऐसे में उनके लिए अलग से फ्लैट लेना मुमकिन नहीं था.

इसलिए उन्होंने मुंबई में शेयरिंग में एक घर किराए पर लिया था. जहां वो एक बुजुर्ग महिला के साथ पेयिंग गेस्ट के तौर पर रहते थे. जिन्हें राजू एक रूम का किराया देते थे. कुछ समय बाद जब राजू को काम मिलने लगा तो उन्होंने ये घर छोड़ दूसरा लिया.

ये भी पढ़ें –

राजू ने खरीदा अपना घर

शेयरिंग में रहने के बाद राजू ने मालाड स्थित जनकल्याण नगर में 2.5 लाख का वन रूम किचन फ्लैट लिया था. जिसकी कीमत आज की तारीख में सवा करोड़ तक की हो चुकी है. राजू दिन पर दिन तरक्की की सीढ़िया चढ़ रहे थे.

शादी के कुछ सालों बाद ही उन्होंने ओशिवारा पुलिस स्टेशन के ऑपोजिट मेरीगोल्ड बिल्डिंग में डबल बेडरूम घर खरीदा था. उस वक्त उन्होंने वो घर 22 लाख रुपये में लिया था. इस प्रॉपर्टी की मौजूदा कीमत डेढ़ से दो करोड़ की आंकी जा रही है.

करोड़ो की प्रॉपर्टी के मालिक

इसके बाद 2005 में राजू लाफ्टर चैलेंज से कॉमेडी के सुपरस्टार बन गए. राजू की और भी बेहतरीन कमाई होने लगी. राजू कई शोज करने लगे. इसके बाद उन्होंने लोखंडवाला के समर्थ में दो करोड़ रुपये की लागत में 4 बीएचके फ्लैट लिया.

राजू ने इसके बाद उसी बिल्डिंग पर एक और फ्लैट ले लिया था. दिल्ली में भी जब उनके आर्मी रिटायर्ड भाई को घर खरीदना था, तो राजू ने पैसे मिलाकर एक बड़ा मकान खरीद दिया था. कानपुर, लखनऊ में भी उनका बंगला है.

मददगार थे राजू

राजू ने गरीबी को करीब से जिया है. शुरुआत में गुजारा करने के लिए वो ऑटो तक चलाते थे. इसलिए समझते हैं कि पैसे की जरूरत क्या होती है. कभी कोई गरीब उनसे जब मदद की आस लगाता तो वो मना नहीं करते थे.

राजू श्रीवास्तव

एक बार बिल्डिंग के वॉचमैन ने जब उनसे पैसे की मदद चाही तो उन्होंने फौरन जेब से पांच हजार निकालकर उसके हाथ में रख दिए. यहां तक की जिस भी नए टैलेंट व स्ट्रगलर से मिलते उसके परफॉर्मेंस को सुनने के बाद उसके हाथ में पांच हजार रुपये रख दिया करते थे.

राजू श्रीवास्तव भले ही आज इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी यादें हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा रहेंगी. राजू के कॉमेडी वीडियोज लोगों को हमेशा का काम करते रहेंगे.