October 4, 2022
वेदांता के चेयरमैन ने कहा कि आने वाले समय में एक लाख रुपये का यही लैपटॉप महज 40,000 रुपये से भी कम कीमत पर मिलने लगेगा. सेमीकंडक्टर चिप और ग्लास के भारत में उत्पादन को लेकर अनिल अग्रवाल ने एक बिजनेस चैनल के साथ इंटरव्यू के दौरान ये दावा किया है.

Vedanta के चेयरमैन ने गुजरात में ताइवान की दिग्गज इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी फॉक्सकॉन के साथ मिलकर सेमीकंडक्टर चिप प्लांट लगाने के लिए बड़े निवेश का ऐलान किया है. इसके लिए मंगलवार को गुजरात सरकार के साथ एमओयू भी साइन किए गए हैं. इस प्लांट के लिए वेदांता समूह 1.54 लाख करोड़ रुपये का निवेश करने वाला है. इस मुद्दे पर बोलते हुए वेदांता चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने एक बड़ा दावा किया है.

लैपटॉप की कीमतों पर बोले अग्रवाल

आज के डिजिटल दौर में पैसों का लेन-देन हो, किसी योजना के लिए आवेदन करना हो या फिर बच्चों की पढ़ाई लिखाई हो, मोबाइल और लैपटॉप बेहद जरूरी चीजें बन गई हैं. हालांकि, वर्तमान में कोई भी अच्छा लैपटॉप खरीदना हो तो जेब में करीब 1 लाख रुपये रखने होते हैं.

वेदांता के चेयरमैन ने कहा कि आने वाले समय में एक लाख रुपये का यही लैपटॉप महज 40,000 रुपये से भी कम कीमत पर मिलने लगेगा. सेमीकंडक्टर चिप और ग्लास के भारत में उत्पादन को लेकर अनिल अग्रवाल ने एक बिजनेस चैनल के साथ इंटरव्यू के दौरान ये दावा किया है.

लैपटॉप समेत कई प्रोडक्ट होंगे सस्ते

इंटरव्यू के दौरान अग्रवाल ने कहा कि सेमीकंडक्टर चिप्स के भारत में बनने से कई इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट की कीमतों में बदलाव देखने को मिलेगा और ये चीजें सस्ती हो सकती हैं. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि आज अगर किसी बच्चे को एक अच्छा Laptop चाहिए, तो इसके लिए उसे करीब 1 लाख रुपये खर्च करने होते हैं, लेकिन एक बार जब ग्लास और सेमीकंडक्टर चिप भारत में मैन्यूफैक्चर होकर उपलब्ध होने लगेंगे, तो इस तरह के लैपटॉप 30 से 40 हजार रुपये की कीमत में भी उपलब्ध हो सकते हैं.

वेदांता चेयरमैन ने कहा कि अभी ग्लास का उत्पादन ताइवान और कोरिया जैसे देश करते हैं, लेकिन जल्द ही भारत में भी इसका प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा.

अभी दूसरे देशों पर निर्भरता

गौरतलब है कि सेमीकंडक्टर का इस्तेमाल ऑटो और स्मार्टफोन समेत कई इलेक्ट्रिक प्रोडक्ट्स में किया जाता है. लेकिन, भारत समेत कई देश सेमीकंडक्टर चिप के लिए अन्य देशों पर निर्भर हैं. लेकिन अब भारत में इसकी मैन्यूफैक्चरिंग की तैयारी शुरू हो चुकी है. इस दिशा में वेदांता-फॉक्सकॉन की ये डील आगाज है.

मंगलवार को अनिल अग्रवाल के नेतृत्व वाले वेदांता समूह और इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण क्षेत्र की दिग्गज फॉक्सकॉन ने सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले एफएबी मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट लगाने के लिए गुजरात सरकार के साथ दो एमओयू साइन किए हैं.

1.54 लाख करोड़ इन्वेस्ट करेगी वेदांता

वेदांता के चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर इस डील की जानकारी दी थी. उन्होंने लिखा था कि, ‘ऐतिहासिक मौका, मुझे यह ऐलान करते हुए खुशी हो रही है कि गुजरात में नया वेदांता-फॉक्सकॉन सेमीकंडक्टर प्लांट स्थापित किया जाएगा.

अग्रवाल ने आगे लिखा, वेदांता ग्रुप का 1.54 लाख करोड़ रुपये का निवेश भारत की आत्मनिर्भर सिलिकॉन वैली को वास्तविकता बनाने में मदद करेगा. बिजनेस टुडे के मुताबिक, Vedanta और Foxconn के इस संयुक्त उद्यम में जहां अनिल अग्रवाल के समूह की 60 फीसदी हिस्सेदारी है, वहीं फॉक्सकॉन का 40 फीसदी हिस्सा है.