October 3, 2022
अवैध संबंधों के शक में पत्नी की हत्या, गुस्से में आकर लाश के साथ कि ये हरकत

Raigarh Murder News: छत्तीसगढ़ के रायगढ़ शहर के चक्रधरनगर इलाके में पति (Husband) ने अवैध संबधों (Illicit Relations) के शक में पत्नी (Wife) को मौत के घाट उतार दिया. पुलिस ने इस हत्या (Murder) का सनसनीखेज खुलासा किया है.

ऐसा खुलासा जो ज्यादातर फिल्मों में देखने को मिलता है. पति ने अपनी पत्नी को दूसरे शख्स की आगोश में देखा तो आग बबूला हो गया जिसके बाद युवक ने पत्नी की धारदार हथियार से हत्या कर दी.

कत्ल करने के बाद लाश को घर के ही आंगन में गाड कर फरार हो गया. हत्या का यह राज़ मृतक की बहन ने पुलिस के सामने खोला जिसके बाद पुलिस लाश ने जमीन के अंदर से लड़की की लाश खोदकर निकाली.

दरअसल पिछले 1 सितंबर से महिला कांति यादव लापता थी. उसकी बहन डिलेश्वरी ने चक्रधर नगर पुलिस थाने में 16 सितंबर को उसके गुम होनें की रिपोर्ट लिखाई थी.

ये भी देखें

इसके बाद जब बहन डिलेश्वरी ने 18 सितंबर को घर का दरवाजा खोलकर अंदर प्रवेश किया तो घर के आंगन में उसे मिट्टी खुदी हुई मिली और उसमें पौधे लगे हुए मिले. शक के चलते उसने खुदी हुई मिट्टी को हटाकर देखा तो उसकी बहन कांति की लाश दफनाई हुई दिखाई दी. उसके बाद बहन ने पुलिस को खबर की और तत्काल कार्रवाई करते हुए शव को खोदकर निकाला गया.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कांति का प्रेमी खगेश्वर उर्फ अजय यादव जशपुर जिले में पकड़ में आया और उसने हत्या की वारदात को कबूल कर लिया. आरोपी खगेश्वर राम यादव उर्फ अजय यादव उम्र 41 ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि करीब 12-13 वर्ष से रायगढ़ में किराए मकान पर रह रहा था. आरोपी रायगढ़ में ड्राइवरी का काम करता है.

तीन साल पहले मांझापारा में अपना बना लिया था. खगेश्वर ने पुलिस को बताया कि उसने कांति यादव नाम की महिला से प्रेम विवाह किया था बाकायदा दोनों पति-पत्नी की तरह रहते थे. कांति अक्सर गैर मर्दों से बातचीत किया करती थी जो कि आरोपी को पसंद नहीं था. इसे लेकर कई बार दोनों में झगड़ा हुआ था और कांति को दूसरे व्यक्तियों मेल जोल रखने सख्त मना किया था.

हत्या की घटना से 3 दिन पहले अजय अपने गांव लोटापानी गया हुआ था. जब वह गांव से लौटा तो घर का दरवाजा अंदर से बंद था. वो चुपचाप दीवार फांद कर घर में दाखिल हुआ. अंदर जाकर देखा तो कांति किसी दूसरे व्यक्ति के साथ बिस्तर पर मौजूद थी. अजय ने गुस्से में कांति को थप्पड़ जड़ दिया. कांति के साथ मौजूद शख्स मौका देखकर वहां से भाग गया और अजय ने कांति का सिर दीवार में दे मारा और वो बेहोश होकर गिर पड़ी.

इसके बाद वह घर से चला गया. दूसरे दिन सुबह आकर देखा तो कांति मरी चुकी थी. अजय ने डर से घर का दरवाजा बाहर से बंद किया और इधर उधर भटकता रहा. 3 दिन बाद वापस घर जाकर रात के समय घर आया और घर के आंगन में कांति के शव को गड्ढा खोदकर दफन कर दिया.